Wo bekhabar hai

Log kahtein hain

Log kahtein hain samjho toh
Khamoshiyan bhi bolti hain

Main arsey sey khamosh hoon,
Wo barson sey bekhabar hai

bekhabar

 

लोग कहते हैं समझो तो
खामोशियाँ भी बोलती हैं,

मैं अरसे से ख़ामोश हूँ वो
बरसों से बेख़बर है

—————————————

Hindi Shayari Ka Lazawab Collection

कुछ रहम कर ऐ ज़िन्दगी, थोड़ा सवर जाने दे
तेरा अगला जख्म भी सह लेंगे,
पहले वाला तो भर जाने दे

raham

Kuchh raham kar ay zindagi,
thhora sawar jaaney dey.

Tera agla zakhm bhi sah lengey
Pahley wala toh bhar jaaney dey

Coutesy 

Leave a Comment

DMCA.com Protection Status