Shayari Bashir Badr Sahab Ki

Shayari Bashir Badr Sahab Ki

Bashir Badr Sahab Ki Shayari mein wo maza aur wo zazba hai jo khoon tak pahoonch jata hai. Gaur farmayen

bashir badra

 

कुछ तो मजबूरियां रही होंगी,
यूं कोई बेवफ़ा नहीं होता।

देने वाले ने दिया सब कुछ अजब अंदाज से,
सामने दुनिया पड़ी है और उठा सकते नहीं।

सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जायेगा,
इतना मत चाहो उसे वो बे-वफ़ा हो जायेगा।

एक दिन तुझ से मिलने जरूर आऊंगा
जिंदगी मुझ को तेरा पता चाहिए।

कभी धूप दे, कभी बदलियां, दिलोजान से दोनों कुबूल हैं,
मगर उस नगर में ना कैद कर, जहां जिन्दगी की हवा ना हो।

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो,
न जाने किस गली में जिंदगी की शाम हो जाए।

कभी धूप दे, कभी बदलियां, दिलोजान से दोनों कुबूल हैं,
मगर उस नगर में ना कैद कर, जहां जिन्दगी की हवा ना हो।

Leave a Comment

DMCA.com Protection Status