Pahchan baki hai

==== Pahchan baki hai ====

Mit gaya hoon kab ka, bas nishan baaki hai
Merey tutey paron mein, aasmaan baaki hai,
Teri bewafai sey, koi shikayat nahi
Aashiq ab bhi hoon tera, yahi pahchan baki hai

 

pahchan

 

 

मिट गया हूँ कब का , बस निशान बाकी है
मेरे टूटे परों में , आसमान बाकी है,
तेरी बेवफाई से , कोई शिकायत नहीं
आशिक अब भी हँ तेरा, यही पहचान बाकी है

Hindi Shayari Dard Ki

 

 

Leave a Comment

DMCA.com Protection Status