Bhool jaana thha

भूल जाना था तो फिर अपना बनाया क्यूँ था
तुम ने उल्फ़त का यक़ीं मुझ को दिलाया क्यूँ था

एक भटके हुए राही को सहारा दे कर
झूटी मंज़िल का निशाँ तुम ने दिखाया क्यूँ था

 

 

Bhool jaana thha toh fir, apna banaya kun thha
Tum ney ulfat ka yakeen mujh ko dilaya kyun thha

Ak bhatkey huye raahi ko sahara dey kar
Jhooti manzil ka nishan tum ney dikhaya kyun thha

Saba Afgani

Cotrsy

Leave a Comment

DMCA.com Protection Status