Best Of Gulzar Shayari

Best Of Gulzar Shayari

गुलज़ार साहब की शायरी के दीवानों के लिए हम एक बार फिर से ले कर आये हैं गुलज़ार की शायरी. गुलज़ार साहब कि शायरी में वो कशिश है कि आप, खिंचे  चले आते है उनकी तरफ. गुलज़ार शायरी, शायरी का वो मुकाम है,जो हर शायर छूना चाहता है. पेश है Best Of Gulzar Shayari

शाम से आँख में नमी सी है
आज फिर आपकी कमी सी है

दफन कर दो हमे कि सांस चले
नब्ज़ कुछ देर से ठामी सी है

 

Best Of Gulzar Shayari
Best Of Gulzar Shayari

 

कौन पथरा गया है आंखें मेरी
बर्फ पलकों पे क्यूँ जमी सी है

( Best Of Gulzar Shayari )

वक़्त रहता नहीं कहीं टिक कर
इसकी आदत भी आदमी सी है

आइये रास्ते अलग कर लें
ये ज़रुरत भी वहमी सी है

Best Of Gulzar Shayari

shaam se aankh mein namee see hai
aaj phir aapakee kamee see hai

daphan kar do hame ki saans chale
nabz kuchh der se thhamee see hai

kaun pathara gaya hai aankhen meree
barph palakon pe kyoon jamee see hai

( Best Of Gulzar Shayari )

vaqt rahata nahin kaheen tik kar
isakee aadat bhee aadamee see hai

aaiye raaste alag kar len
ye zarurat bhee vahamee see hai

Gulzar Ki Hindi Shayari

 

Best Gulzar Shayari
Best Gulzar Shayari

खुशबू जैसे लोग मिले अफसाने में
एक पुराना ख़त खोला अनजाने में

शाम के साए बालिश्तों से नापे हैं
चाँद ने कितनी देर लगा दी आने में

रात गुज़रते थोड़ा शायद वक़्त लगे
धुप उरेलो थोड़ा सा पैमाने में

( Best Of Gulzar Shayari )

जाने किस का जिक्र है इस अफ़साने में
दर्द मजे लेता है जो दोहराने में

दिल पर दस्तक देने कौन आ निकला है
किसकी आहट सुनता हूँ वीराने में

( Best Of Gulzar Shayari )

हम इस मोड़ से उठ के अगले मोड़ चले
उनको शायद उम्र लगेगी आने में

Hindi Shayari Gulzar Ki In English fonts

khushaboo jaise log mile afasaane mein
ak puraana khat khola anajaane mein

shaam ke sae baalishton se naape hain
chaand ne kitanee der laga dee aane mein

raat guzarate shaayad thoda vaqt lage
dhup urelo thodee see payamaane mein

( Best Of Gulzar Shayari )

jaan kis ka zikr hai is afasaane mein
dard maje leta hai jo doharaane mein

dil par dastak dena kaun aa nikala hai
kisakee aahat sunata hoon veeraanon mein

( Best Of Gulzar Shayari )

ham is mod se uth ke agale mod chale
unako shaayad umr lagegee aane mein

Gulzar Ki Shayari

ऐसा खामोश तो मन्ज़र न फ़ना का होता
मेरी तस्वीर भी गिरती तो छनाका होता

यूँ भी इक बार तो होता कि समंदर बहता
कोई अहसास तो दरिया कि अना को होता

सांस मौसम कि भी कुछ देर को चलने लगती
कोई झोंका तेरी पलकों कि हवा का होता

( Best Of Gulzar Shayari )

कांच के पार तेरे हाथ नज़र आते हैं
काश खुशबू कि तरह रंग हिना का होता

क्यूँ मेरी शक्ल पहन लेता है छुपाने के लिए
इक चेहरा कोई अपना भी कहा का होता

Best Of Gulzar Sahab Shayari

aisa khaamosh to manzar na fana ka hota
meree tasveer bhee giratee to chhanaaka hota

yoon bhee ik baar to hota ki samandar bahata
koee ahasaas to dariya ki ana ko hota

saans mausam ki bhee kuchh der ko chalane lagatee
koee jhonka teree palakon ki hava ka hota

( Best Of Gulzar Shayari )

kaanch ke paar tere haath nazar aate hain
kaash khushaboo ki tarah rang hina ka hota

( Best Of Gulzar Shayari )

kyoon meree shakl pahan leta hai chhupaane ke lie
ik chehara koee apana bhee kaha ka hota

Hope you all liked Best Of Gulzar Shayari today. Keep visiting us for more new Hindi Shayari and best Shayari .

 

2 thoughts on “<span class="dojodigital_toggle_title">Best Of Gulzar Shayari</span>”

Leave a Comment

DMCA.com Protection Status